जवाब / नागरिकता संशोधन बिल को अमेरिका ने पक्षपातपूर्ण बताया, भारत ने कहा- उन्हें हमारे मामले में दखल देने का अधिकार नहीं विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा- हमारे मामले में यूएससीआईआरएफ का हस्तक्षेप सही नहीं। -फाइल फोटो

जवाब / नागरिकता संशोधन बिल को अमेरिका ने पक्षपातपूर्ण बताया, भारत ने कहा- उन्हें हमारे मामले में दखल देने का अधिकार नहीं








  • अमेरिका के यूएससीआईआरएफ ने नागरिकता संशोधन बिल को पक्षपातपूर्ण बताया था

  • विदेश मंत्रालय ने कहा- नागरिकता बिल और एनआरसी धर्म के आधार पर किसी से भारतीय नागरिकता नहीं छीनता

  • 'अमेरिका सहित हर एक देश को जनगणना और अपने नागरिकों की पहचान करने का अधिकार'



 



नई दिल्ली. भारत ने नागरिकता संशोधन बिल (सीएबी) पर अमेरिका के बयान को खारिज किया है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने मंगलवार को कहा कि अमेरिक के अंतरराष्ट्रीय धार्मिक आजादी केंद्र (यूएससीआईआरएफ) को हमारे मामलों में दखल देने की जरूरत नहीं है। नागरिकता बिल (सीएबी) और एनआरसी किसी भी व्यक्ति से धर्म के आधार पर भारतीय नागरिकता नहीं छीनता है। यूएससीआईआरएफ ने नागरिकता बिल को पक्षपातपूर्ण बताया था।


रवीश कुमार ने कहा- यूएससीआईआरएफ को इस मामले मे दखल देने का अधिकार नहीं है। उन्हें यहां की स्थानीय समस्याओं की जानकारी नहीं है। वह अपने पूर्वाग्रहों के आधार पर बयानबाजी कर रहे हैं। अमेरिका सहित हर एक देश को यह अधिकार है कि वह जनगणना कराए और अपने नागरिकों की पहचान करे। ऐसा करने के लिए योजनाएं या कानून बनाए जा सकते हैं।






Popular posts
नदी नहाने गए लड़के की डुबने से हुई मौत-
Image
बकरी चराने गए व्यक्ति के ऊपर भालू ने किया अटैक दूसरे दिन मिला मृतक का डेड बॉडी क्षेत्रीय वासी भालू से परेशान
Image
उत्तर प्रदेश के एक ब्राह्मण नेता की बेटी व सिंगरौली जिले के एक साहू समाज के बेटे की शादी को लेकर बधाइयां
Image
सिंगरौली सुलियरी कोल माइंस में लगातार चल रहे धरने को प्रशासन ने 144 धारा आचार संगिता के उल्लंघन कह कर करवाया बंद
Image
नवानगर पुलिस ने सूदखोरी कर रहे 2 आरोपी धाराए, स्कॉर्पियो, 8 मोटरसाइकिल समेत चेक बुक बरामद
Image