22 मार्च 2020 को घोषित जनता कर्फ्यू, कोरोना वायरस के विरुद्ध एक अत्यंत ही सूझबूझ भरा वैज्ञानिक और आध्यात्मिक कदम है।जनता कर्फ्यू का समर्थन करें 

22 मार्च 2020 को घोषित जनता कर्फ्यू, कोरोना वायरस के विरुद्ध एक अत्यंत ही सूझबूझ भरा वैज्ञानिक और आध्यात्मिक कदम है।जनता कर्फ्यू का समर्थन करें 


सम्वाददाता फ़िरोज खान देवरिया 



     
देवरिया खुखुन्दू प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 22 मार्च 2020 को घोषित जनता कर्फ्यू, कोरोना वायरस के विरुद्ध एक अत्यंत ही सूझबूझ भरा वैज्ञानिक और आध्यात्मिक कदम है। आपने इस बारे में समझने की अगर कोशिश की, तो आप इस कदम में 100% प्रतिशत न केवल साथ देंगे बल्कि जब पूरे मन से और पूरे उत्साह से साथ देंगे तो अविश्वसनीय परिणाम सामने आएंगे। आइए इसको समझने की कोशिश करते हैं। उक्त बाते सदस्य क्षेत्र पंचायत लियाकत अहमद ने स्थानिय नागरिकों से अपिल किया है। 
      आगे श्री अहमद ने कहा कि क्या आप जानते है कि कोरोना वायरस की उम्र अलग अलग परिस्थितियों में कितनी होती है। कोरोना वायरस आम लेकिन अलग अलग परिस्थितियों में 3 से 72 घण्टे तक सक्रिय रह सकता है अर्थात उसकी उम्र इतनी ही है, वो भी अधिकतम 72 घण्टे तक, लेकिन ज़्यादातर 36 घण्टे में ये समाप्त हो जाता है। अब अगर सरकार पूरे देश को क्वारंटाइन करना चाहे या आइसोलेशन वार्ड में एडमिट करना चाहे तो क्या ये मुमकिन है, बिल्कुल नही। इसलिए बहुत समझदारी से सहयोग करें। रविवार का दिन चुना, जिस दिन सभी देशवासियों को घर पर रूकना आसान है। अब इसे गौर से समझिए। जब हमें 22 मार्च को सुबह 7 बजे से रात के 9 बजे तक जनता कर्फ्यू के रूप में घर पर रहने के लिए कहा गया है वो भी रविवार को छुट्टी वाले दिन तो इसका साफ मतलब है कि पूरे देशवासियों को 36 घंटे तक क्वारंटाइन में रहने के लिए एक समझदारी भरे निवेदन से मनाना । क्योंकि हम सब 21 मार्च की शाम या रात से अपने घर आ जाएंगे और पूरी रात घर पर ही रहते हैं जो की मामूली सी बात ही तो है, फिर अगले दिन सुबह 7 बजे से रात के 9 बजे तक 22 मार्च को जनता कर्फ्यू की वजह से घर पर रहेंगे और फिर उसके बाद फिर घर पर ही सो जाएंगे तो 23 मार्च सुबह जाग कर उठेंगे। इसका मतलब की 21 मार्च की रात से 23 मार्च की सुबह तक जब हम घर पर ही रहेंगे तो 36 घण्टे का हम अपने आप को घर में क्वारंटाइन निवास ही करेंगे। यानी कि कोरोना वायरस अगर कही है तो उसे, 36 घँटे के इस क्वारंटाइन वास या आइसोलेशन वार्ड जैसी स्थिति के चलते पनपने का माध्यम नही मिलेगा और वो लगभग समाप्त होने की स्थिति में पहुंच जायेगा। इस प्रकार से पूरा भारत एक वैज्ञानिक प्रयोग के माध्यम से कोरोना को हरा सकने की सशक्त स्थिति में आ जाएगा।
दूसरी तरफ जब शाम को 5 बजे, जब लोग अपनी खिड़की या दरवाजे पर खड़े होकर 5 मिनट तक थाली या ताली बजाकर उन लोगो को धन्यवाद देंगे तो ये भी एक आध्यात्मिक प्रयोग ही तो है जिसके माध्यम से प्राणाकर्षण करके कोरोना से लड़ने वालो को सशक्त व सम्बल प्रदान किया जाएगा। अंग्रेजी में इसे LAW OF ATTRACTION कहते हैं। तो इस प्रकार अभूतपूर्व सूझबूझ से कोरोना वायरस का जड़मूल से नाश करने का आग्रह  है। इस योजना को समझने और क्रियान्वयन करने की महती आवश्यकता है।
    मस्जिद के इमामों व मन्दिर के पुजारी गण से अनुरोध है कि अपने अपने मस्जिद व मन्दिर इस संदेश को घोषणा करें।


Popular posts
MP : जिले में 13 से 19 अप्रैल तक एक सप्ताह का टोटल लाकडाउन –मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान
Image
खुशखबरी! मोटरसाइकिल का चालान (Challan) काटने के बाद भी आपको पैसे नहीं देने होंगे! यह नया यातायात नियम देखें
Image
बंगाल चूनाव हिंसा: पश्चिम बंगाल में रेड करने गए किशनगंज के पुलिस इंस्पेक्टर की भीड़ ने की हत्या
Image
पुलिस ने ऑन कैमरा सीने में ठोक दी गोली? जानें- क्या है वायरल हो रहे वीडियो की सच्चाई
Image
जनपद एटा परेड में ड्रिल एवं शारीरिक दक्षता के उपरांत एसएसपी एटा ने परखी पुलिस लाइन परिसर की व्यवस्थाएं, आगामी त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों के दृष्टिगत पुलिस कर्मी रहे चुस्त दुरुस्त
Image