चंदुइया में प्राइमरी स्कूल के पास सरकारी देशी शराब ठेका बन्द की मांग करती महिलाओं का समूह घर छोड़कर सड़क पर आ गयी

ब्रेकिंग-चंदुइया में प्राइमरी स्कूल के पास सरकारी देशी शराब ठेका बन्द की मांग करती महिलाओं का समूह घर छोड़कर सड़क पर आ गयी


संवाददाता सुमित यादव फरुर्खाबाद



फरुर्खाबाद -जुआ और शराब दोनों ऐसे घातक अवगुण है ।जो किसी भी व्यक्त के पारिवारिक जीवन को नर्क बना देते हैं। हालत उस समय और खराब दिखाई देने लगते हैं ।जब कोई व्यक्ति शराब का आदी हो जाता है। ऐसा व्यक्ति अपने नशे की लत पूरी करने के लिए किसी भी हद तक जाने से गुरेज नहीं करता। इस तबाही की एक बानगी आज उस समय सामने आती दिखाई दी जब महिलाओं का समूह घर छोड़कर सड़क पर आ गया ।मिली जानकारी के अनुसार थाना मेरापुर क्षेत्र के गांव चंदुइया में सरकारी देशी शराब ठेका की दुकान है ।जिसकी बन्द की मांग करती हुई। लगभग एक दर्जन से भी ज्यादा महिलायें विरोध करती हुई। चंदुइया मार्ग वाले चौराहे पर आ गयी। महिलाओं व उनके साथ आये बच्चों एवं युवक-युवतियों और कुछ ग्रामीणों ने सड़क जाम कर प्रदर्शन करना शुरू कर दिया। लगभग दो-तीन घंटे के बाद अचरा पुलिस चौकी प्रभारी अच्छे लाल पाल महिला पुलिस कांस्टेबिल व अन्य पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे। प्रदर्शनकारी महिलाओं का कहना था कि यह शराब दूकान प्राइमरी स्कूल के बिल्कुल पास है। वहीं शराव दूकान से सौ मीटर की दूरी पर कालेज है।. पढ़ने वाले बच्चों का भविष्य खराब हो रहा है। इससे भी ज्यादा पीड़ा महिलाओं को थी! कि उनके घर के पुरूष शराब के लिए घर का खाद्यान्न गेहूँ ,वर्तन,जेवर आदि सामान तक बेचकर दारू पी लेते हैं। कुछ महिलायें कह रही थी कि मजदूरी करके जो कुछ पैसा लाते हैं। उसकी उनके पति शराब पी लेते हैं। बच्चे भूखे पेट रह जाते हैं। यदि शराब पीने से मना करें। तो आये दिन मारपीट कर कलह करते हैं। मौके पर पहुंचे एस० आई० पाल ने समस्या से अधिकारियों को अवगत कराने की बात कह समझा-बुझाकर किसी तरह जाम खुलवा दिया।


Popular posts
छत्तीसगढ़ में दुर्गा विसर्जन के जुलूस पर चढ़ाई कार एक की मौत, 26 से ज्यादा लोग घायल
Image
ऑटो और कार की भिड़ंत दो की मौत 4 घायल
Image
सिंगरौली जिले में कोयला मंत्री प्रह्लाद जोशी का एनसीएल दौरा
Image
सिंगरौली जिले के एनटीपीसी पावर प्लांट में एक अधेड़ उम्र के व्यक्ति की पानी के चैनल में गिरने से मौत
Image
मुहम्मदपुर फेटी कि घटना का अभी तक नहीं हुआ खुलासा,खुली आंख वाले प्रशासन ने वादी को अन्धा दिखाकर निर्दोष पत्रकार को भेजा गया जेल प्रशासन ने मौके की विवेचना करना जरूरी नहीं समझा
Image