बिना अनुमति ओबी कंपनी में प्रदर्शन करना पड़ा भारी, मोरवा पुलिस ने दर्ज किया मामला

बिना अनुमति ओबी कंपनी में प्रदर्शन करना पड़ा भारी, मोरवा पुलिस ने दर्ज किया मामला


आर.वी न्यूज़ जिला ब्यूरो चीफ विवेक पाण्डेय 



पात्र अभ्यर्थियों के स्थान पर निजी लोगों के लिए बनाया जाता है अनैतिक दबाव


मध्यप्रदेश जिला सिंगरौली/एनसीएल स्थित खदानों में ओवरबर्डन हटाने का काम कर रही ओबी कंपनियों में नौकरी को लेकर आए दिन प्रदर्शन व हड़ताल हुआ करती हैं। ऐसे ही एक मामले में पुलिस ने बिना अनुमति धरना प्रदर्शन कर काम अवरुद्ध करने पर मामला दर्ज किया है।
जानकारी अनुसार डीबीएल कंपनी के जनरल मैनेजर पद पर पदस्थ समीर घोष की तहरीर पर मोरवा निरीक्षक मनीष त्रिपाठी ने मुहेर निवासी अक्षय कुमार साकेत एवं रविचंद्र के विरुद्ध विभिन्न धाराओं के तहत मामले दर्ज किया है। गौरतलब है कि एनसीएल की निगाही खदान में कार्य कर रही डीबीएल कंपनी के जीएम ने मोरवा थाने में तहरीर दी थी की अक्षय कुमार साकेत एवं रविचंद्र द्वारा ग्रामीणों की भीड़ एकत्रित कर बुधवार सुबह डीबीएल कंपनी का गेट बंद कर प्रदर्शन किया गया है। जिससे कंपनी का काम कई घंटों तक बाधित रहा। इस दौरान उन्होंने शासन द्वारा जारी दिशा निर्देश का भी खुलेआम उल्लंघन किया। सैकड़ों के तादाद में जुटे लोगों ने सामाजिक दूरी का भी ध्यान नहीं रखा। कंपनी के जीएम ने यह भी आरोप लगाया कि अक्षय कुमार साकेत का दो बार ड्राइवर हेतु दिया गया परीक्षण असफल होने के बाद भी उसके द्वारा अनैतिक तौर पर नौकरी के लिए दबाव बनाया जा रहा है। इन्होंने परीक्षण अधिकारी चंदन पटेल को भी जान से मारने की धमकी दी है। पुलिस ने इनकी तहरीर पर अक्षय कुमार साह एवं रविचंद्र व उसके अन्य साथियों के विरुद्ध अपराध क्रमांक 242/20 धारा 141, 341, 188 एवं 506 भादवी के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।


Popular posts
छत्तीसगढ़ में दुर्गा विसर्जन के जुलूस पर चढ़ाई कार एक की मौत, 26 से ज्यादा लोग घायल
Image
ऑटो और कार की भिड़ंत दो की मौत 4 घायल
Image
सिंगरौली जिले में कोयला मंत्री प्रह्लाद जोशी का एनसीएल दौरा
Image
सिंगरौली जिले के एनटीपीसी पावर प्लांट में एक अधेड़ उम्र के व्यक्ति की पानी के चैनल में गिरने से मौत
Image
मुहम्मदपुर फेटी कि घटना का अभी तक नहीं हुआ खुलासा,खुली आंख वाले प्रशासन ने वादी को अन्धा दिखाकर निर्दोष पत्रकार को भेजा गया जेल प्रशासन ने मौके की विवेचना करना जरूरी नहीं समझा
Image