मुहम्मदपुर फेटी कि घटना का अभी तक नहीं हुआ खुलासा,खुली आंख वाले प्रशासन ने वादी को अन्धा दिखाकर निर्दोष पत्रकार को भेजा गया जेल प्रशासन ने मौके की विवेचना करना जरूरी नहीं समझा

मुहम्मदपुर फेटी कि घटना का अभी तक नहीं हुआ खुलासा,खुली आंख वाले प्रशासन ने वादी को अन्धा दिखाकर निर्दोष पत्रकार को भेजा गया जेल प्रशासन ने मौके की विवेचना करना जरूरी नहीं समझा 











ठेकमा आजमगढ़ बरदह थाना क्षेत्र के अंतर्गत रसुलपुर तुंगी ग्राम सभा में महफूज खान को एक अंधे व्यक्ति ने आवास व पैसे के लेनदेन में आरोप में  पुलिस प्रशासन ने बिना प्रकरण जांच किए भेज दिया गया जेल, जबकि वह व्यक्ति अंधा नहीं है, उसकी सिर्फ एक आंख खराब है मौके पर पत्रकार की टीम पहुंची तो वह व्यक्ति बोला कि कौन बोलता है मैं अंधा हूं पत्रकारों ने कहा थाने पर हम लोग गए थे वहां पर हमें सूचना मिली किसी पत्रकार ने अंधे से पैसा लिया है इसकी हकीकत जानने के लिए हमारी टीम आपके पास आई हुई है अगर आपके साथ अन्याय हुआ है तो मिडिया टीम आप की पूरा सहयोग करेंगी वह व्यक्त बोला कि जो हमें अंधा कह रहा है वह खुद अंधा है विभागीय प्रशासनिक अधिकारियों को गाली देने लगा और बोला कि जो हमें अंधा बता रहा है वह खुद अंधा है 



कुछ गांव वालों से भी इसकी जानकारियां ली गई गांव वाले बोले ले की पत्रकार को प्रशासन और रसूखदार के जरिए एक आँख ख़राब व्यक्ति को झांसे मे लेकर साजिश के तहत इनको फंसाया गया है इस बात को लेकर क्षेत्रीय मीडिया पत्रकार टीम बरदह थाने पहुंची और फर्जी मुकदमे के बारे में एसएचओ से बात किया गया तो एसएचओ बोले की इसके विषय में हमें सही जानकारियां नहीं है मेरे पास चौकी इंचार्ज का फोन आया उन्होंने हमसे प्रकरण के बारे में बोला कि 110000 का जो मैटर है वह व्यक्ति पकड़ा गया हुआ है उसका क्या किया जाए तो मैंने बोला उसको जेल भेज दीजिए जो यह थानाअध्यक्ष का कहना है जबकि थानाध्यक्ष को आदेश करना चाहिए था कि पहले प्रकरण का पूरा जांच किया जाए क्या सच्चाई है क्या गलत है उसके बाद अरेस्ट किया जाए लेकिन बिना प्रकरण का जाँच किये जेल भेज दिया गया,  मामला है सरकार की तरफ से ₹120000/ मकान बनाने के लिए आजाद नाम के व्यक्ति (जो कंफर्म नाम नहीं हो पाया है ) स्वीकृति किया गया जिसका एक खराब है इस व्यक्ति ने एक पत्रकार महफूज खान से मदद ली और महफूज खान ने इस व्यक्ति को सभी सामान अपने ट्रेड पर उधार दिलवा दिया जैसे कि सीमेंट सरिया गिट्टी बालू इत्यादि समान शायद ईट भी हो सकता है जिसमे दो कमरे का मकान बनाने के लिए नीव भरा गया पिलर तैयार किया गया ईट से दीवार जोड़ा गया इन सब कामों को पूरा करने के लिए मिस्त्री और लेबर भी लगे जिसमे उन्हें भी पैसा दिया गया आप सब वीडियो में देख रहे हैं कि मकान कितना बनकर तैयार किया गया है उसमें  दरवाजे का फ्रेम भी लगा हुआ है यह सब मात्र ₹10000/- रुपए  में किया गया है क्योंकि जिसके नाम से पैसा जारी किया गया था उसका कहना है कि पत्रकार महफूज खान ₹110000 खा गए है जबकि जो भी सामान आया हुआ है जैसे ईट बालू सीमेंट सरिया गिट्टी दरवाजे का फ्रेम सभी समान पैसे से ही आए हुए हैं जिसका रसीद भी लोगों के पास है जो की वीडियो में दिखा रहे हैं कुछ रसीद उनके पास में मौजूद है 



प्रशासन और जिसका मकान बन रहा है वह यह साबित करें कि क्या जितना यह मकान बना हुआ है वह सिर्फ ₹10000/ में बन सकता है प्रशासन को भी मौके जाकर जांच करना चाहिए था अभी सामान का मगना चाहिए था क्या सही क्या गलत उस प्रकरण के तह तक जाना चाहिए था उसके बाद प्रशासन को एक्शन लेना चाहिए था सारा प्रकरण मिलीभगत से किया गया है प्रेस नोट में भी झूठ बोला गया प्रशासन की तरफ से गलत बयान किया गया है प्रशासन ने वादी का नाम नहीं दिया गया है नहीं प्रकरण को दर्शाया गया है इसलिए पत्रकार को अरेस्ट किया गया है वह भी नहीं लिखा गया है धारा लिखा गया है शासन का कहना है कि पत्रकार को बैंक के पास से किसी मुखबिर के द्वारा पकड़ा गया है जबकि पत्रकार महफूज खान को थाने पर बुलाया गया था और वहीं पर बैठाया गया था उसके बाद उनको जेल भेज दिया गया से साबित होता है कि स्थानीय प्रशासन भी इस प्रकरण में मिला हुआ है श्रीमान पुलिस अधीक्षक से समस्त मीडिया कर्मी अनुरोध करते हैं कि इस प्रकरण की अपने किसी विश्वसनीय प्रशासन के द्वारा मौका मुआयना कर जांच किया जाए इस तथ्य में जो भी गलत साबित होते हैं उनके ऊपर कानूनी कार्यवाही किया जाए



आइए हम उठाते हैं उस कहानी से पर्दा जो मनगढ़ंत और प्रशासन की गुंडागर्दी है और रसूखदार और प्रशासन की मिलीभगत से बनी है एक पत्रकार को फसाने की कहानी हम आपको उस कहानी से अवगत कराते हैं जो निराधार और उसमें कोई तक ही नहीं है उनको गिरफ्तार किस लिए किया गया और कारण क्या है सिर्फ उनको दफा दिखा दिया गया धारा दिखा दिया गया लेकिन किस लिए गिरफ्तार किया गया है इन तथ्यों को उस में दर्शाया नहीं किया है यह प्रेस नोट प्रशासन की तरफ से और थाना अध्यक्ष की तरफ से बना है जिस-जिस थानाध्यक्ष को ज्ञात है कि इसमें मैटर क्या है कहानी क्या है रुपाली हम उस प्रेस नोट को पढ़ते हैं जो थाना अध्यक्ष के तरफ से जारी किया गया है                           

 प्रेस नोट

बाबत गिरफ्तारी 01 नफर वांछित अभियुक्त  

1. गिरफ्तारी का विवरण - श्रीमान् पुलिस अधीक्षक आजमगढ़ महोदय द्वारा अपराध एवं अपराधियों के रोकथाम व वांछित अपराधियों की गिरफ्तारी हेतु चलाये जा रहे अभियान के तहत श्रीमान् पुलिस अधीक्षक नगर महोदय व श्रीमान् क्षेत्राधिकारी लालगंज महोदय के कुशल निर्देशन व प्रभारी निरीक्षक थाना बरदह के कुशल नेतृत्व में उ0नि0 श्री बजरंग कुमार मिश्र मय हमराह क्षेत्र में मामूर थे कि जरिये मुखबिर खास सूचना मिली की थाना स्थानीय पर पंजीकृत मु0अ0सं0 197/21 धारा 406 भादवि थाना बरदह आजमगढ़ से संबंधित वांछित अभियुक्त महफूज पुत्र स्व0 अब्दुल खालिक इस समय बड़ौदा यू0पी0 बैंक दुबरा में बैंक के सामने मौजूद है यदि जल्दी किया जाय तो पकड़ा जा सकता है इस सूचना पर मौके से मय मुखबिरखास के बड़ौदा यू0पी0 बैंक दुबरा के पास पहुंचा तो दूर से ही मुखबिरखास द्वारा इशारा करके बताया गया कि वह व्यक्ति जो काले रंग का पैन्ट सर्ट पहना है वही  महफूज पुत्र खालिक है इतना कहकर मुखबिरखास चला गया कि बैंक के सामने खड़ा व्यक्ति कुछ समझ पाता तब तक  पुलिस द्वारा एकबरागी घेरकर बड़ौदा यू0पी0 बैंक दुबरा के सामने पहुंच कर उस व्यक्ति को पकड़ लिया गया। पकड़े गये व्यक्ति से उसका नाम पता पूछा गया तो बताया कि मेरा नाम महफूज पुत्र स्व0 अब्दुल खालिक निवासी बसडिला थाना खुखुन्दू जनपद देवरिया  हाल पता ससुराल रसूलपुरतुंगी थाना बरदह जनपद आजमगढ़  को कारण गिरफ्तारी बताकर समय 11.30 बजे गिरफ्तार कर चालान मा0 न्यायालय किया गया।

2. पंजीकृत अभियोग - मु0अ0सं0 197/21 धारा 406 भादवि थाना  बरदह आजमगढ़ 

3. गिरफ्तार अभियुक्त-    महफूज पुत्र स्व0 अब्दुल खालिक निवासी बसडिला थाना खुखुन्दू जनपद देवरिया  हाल पता ससुराल रसूलपुरतुंगी थाना बरदह जनपद आजमगढ़

4. आपराधिक इतिहासः- उपरोक्त

गिरफ्तार करने वाली टीम- 

1. उ0नि0 बजरंग कुमार मिश्र थाना बरदह, आमजगढ

2. हे0का0 मनोज यादव थाना बरदह, आजमगढ़

Popular posts
स्कूल से कक्षा दसवीं का लापता छात्र स्कूल के पीछे तालाब में मिला लाश हत्या की आशंका क्षेत्र में फैली सनसनी
Image
प्रधानमंत्री जी ने नोयडा अन्तराष्ट्रीय विमानतल की रखी आधारशिला जो एशिया का सबसे बड़ा एयरपोर्ट होगा नोएडा इण्टरनेशनल एयरपोर्ट
Image
बैढ़न तहसील में पदस्थ बाबू वह अधिवक्ता द्वारा फर्जी अंगूठा लगाकर दूसरे के नाम वसीयत करा लेने का मामला आया प्रकाश में
Image
एपीएमडीसी सुलियरी कोल माइंस में विशाल धरना प्रदर्शन अनिश्चितकालीन लगातार जारी है विस्थापितों के द्वारा
Image
सिंगरौली जिले में 4 दिनों से जारी है सिंगरौली पुलिस की वार्षिक शस्त्र फायरिंग,अब तक 250 जवानों की करायी गयी फायरिंग
Image