जबलपुर से सिंगरौली पहुंची सीबीआई CBI की टीम ने आज एक रिश्वतखोर इंजीनियर को गिरफ्तार कर लिया रिश्वतखोर इंजीनियर ने बिल पास करने के एवज में मांगी थी ₹200000 की रिश्वत

जबलपुर से सिंगरौली पहुंची सीबीआई CBI की टीम ने आज एक रिश्वतखोर इंजीनियर को गिरफ्तार कर लिया  रिश्वतखोर इंजीनियर ने बिल पास करने के एवज में मांगी थी ₹200000 की रिश्वत

जिला सिंगरौली मध्यप्रदेश से ब्यूरो चीफ विवेक पाण्डेय की खास रिपोर्ट



जिला सिंगरौली मध्यप्रदेश रिर्टन विश्वकाशी (RV NEWS LIVE) ब्यूरो न्यूज़//जबलपुर से सिंगरौली पहुंची सीबीआई CBI की टीम ने आज एक रिश्वतखोर इंजीनियर को गिरफ्तार कर लिया रिश्वतखोर इंजीनियर ने बिल पास करने के एवज में मांगी थी ₹200000 की रिश्वत। दरअसल सिंगरौली जिले में रिश्वतखोरी के मामले सामने आ रहे हैं और जिस तरह से मामले निकल कर आए दिन सामने आ रहे हैं उससे तो यही प्रतीत होता है कि सरकारी अधिकारी कर्मचारी कहीं ना कहीं भ्रष्टाचार में पूरी तरह से लिप्त।



सिंगरौली जिले में लगातार लोकायुक्त का छापा पड़ रहा है जिसमें कई रिश्वतखोर अब तक लोकायुक्त के हत्थे चढ़ चुके हैं फिर चाहे वह पुलिस महकमा हो या फिर राजस्व अमला नित नए मामले सामने आ रहे हैं इसके साथ ईओडब्लू की टीम ने भी सिंगरौली जिले में छापामार कार्रवाई पूर्व में की है आए दिन रिश्वतखोरी एवं लेनदेन के मामले में कर्मचारियों की संलिप्तता इस तरह इंगित कर रही है कि सिंगरौली जिले में बड़े पैमाने पर रिश्वतखोरी का काला खेल खेला जाता है जिस पर जिम्मेदार संबंधित विभाग के अधिकारी भी इस पूरे मामले पर संज्ञान नहीं लेते हैं जिस कारण से भ्रष्टाचार बेलगाम होता जा रहा है।

दरअसल सिंगरौली जिले के नार्दन कोलफील्ड लिमिटेड कि नेहरू शताब्दी चिकित्सालय में आज सुबह जबलपुर से सीबीआई CBI की टीम ने 10:00 बजे दस्तक दी एवं नेहरू शताब्दी चिकित्सालय में सिविल विभाग में पदस्थ आर मीणा के कार्यालय में रिश्वतखोर इंजीनियर और उसके ओवरसीयर मनदीप गुप्ता को सीबीआई की टीम ने गिरफ्तार किया है । मिली जानकारी के अनुसार सिविल विभाग के अधिकारी के द्वारा ठेकेदार के बिल भुगतान के एवज में ₹200000 की रिश्वत की मांग की गई थी जिसमें कि पीड़ित के द्वारा आज रिश्वत की पहली किस्त ₹50000 दिया गया जिसे सीबीआई CBI की टीम ने रंगे हाथ सिविल विभाग के इंजीनियर को गिरफ्तार कर लिया हालांकि इस पूरी कार्रवाई के दौरान नेहरू अस्पताल में हड़कंप की स्थिति बनी रही आरोपी लंबे समय से दे रहा था भ्रष्टाचार को अंजाम सूत्र बताते हैं कि सीबीआई CBI के द्वारा गिरफ्तार किए गए नेहरू शताब्दी चिकित्सालय के सिविल इंजीनियर आर मीणा के ऊपर पूर्व में ही कई आरोप लगते रहे हैं और हमेशा से ही संदेह के घेरे में इनकी कार्यशैली रही है रिश्वतखोरी के इस कांड में जिस तरह से चर्चाओं का माहौल बना हुआ है एवं लोग यह तक कहने से नहीं चूक रहे हैं कि आरोपी के द्वारा हमेशा से इस तरह का कृत्य किया जाता रहा है परंतु सीबीआई की टीम ने आज रंगे हाथों गिरफ्तार कर अपने साथ जबलपुर ले गई है

Popular posts
सीआरपीएफ नोएडा के डीआईजी का ट्रांसफर रास बिहारी सिंह बने नए डीआईजी
Image
पैसे के लेन-देन के मामूली विवाद में कुल्हाड़ी से हमला कर एक युवक की निर्मम हत्या
Image
सिंगरौली धिरौली ब्लॉक परियोजना: सैकड़ों ग्रामीणों की उपस्थिति ने जनसुनवाई को बनाया सफल
Image
गोरबी ब्लॉक बी (एनसीएल) की जमीन पर लंबे समय से चले आ रहे अवैध अतिक्रमण को प्रशासन ने अंततः हाईकोर्ट के आदेश के बाद कराया मुक्त
Image
नाबालिक लड़की ने लगाई फांसी हुई मौत,कारण अज्ञात।
Image