अदाणी फाउंडेशन द्वारा पर्यावरण संरक्षण के लिए वृक्षारोपण अभियान

अदाणी फाउंडेशन द्वारा पर्यावरण संरक्षण के लिए वृक्षारोपण अभियान


 ब्यूरो चीफ विवेक पाण्डेय की खास रिपोर्ट



जिला सिंगरौली मध्यप्रदेश रिर्टन विश्वकाशी राष्ट्रीय हिन्दी दैनिक समाचार (RV NEWS LIVE) ब्यूरो न्यूज़//सरई तहसील अन्तर्गत सुदूर गांवों में पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरूकता लाने के उद्देश्य से वृक्षारोपण अभियान चलाया गया। अदाणी फाउंडेशन द्वारा 2 अक्टूबर से 15 अक्टूबर 2022 तक विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों, अलग-अलग शासकीय विद्यालयों, आंगनवाड़ी केंद्रों, ग्राम पंचायत भवनों और पांच गांवों के विभिन्न घरों में किया गया और कुल 626 पेड़ लगाए गए। स्थानीय ग्रामीणों, पंचायत प्रतिनिधियों, स्कूल के शिक्षकों और स्वास्थ्य कर्मचारियों की उपस्थिति में आयोजित इन कार्यक्रमों में समाज के विभिन्न समुदाय के लोगों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा हिस्सा लिया। फलदार पेड़ों में आम और नींबू के अलावा औषधीय गुणों से भरपूर नीम, शीशम और अमलतास के पेड़ प्रमुखता से बांटे और लगाए गए। 



प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, खनुआ खास, शासकीय मध्य विद्यालय, धिरौली, शासकीय मध्य विद्यालय, फाटपानी, आंगनवाड़ी केंद्र, खनुआ नवा टोला, शासकीय मध्य विद्यालय, डोंगरी, शासकीय मध्य विद्यालय, बासी बेरदहा और शासकीय मध्य विद्यालय, बजौड़ी जैसे सामुदायिक स्थलों पर 264 वृक्षारोपण कार्यक्रम के अलावा निजी घरों में फलदार पौधारोपण को बढ़ावा देने के उद्देश्य से बासी बेरदहा, धिरौली, फाटपानी, झलरी और मझौली पाठ गांवों में 362 आम और नींबू के पेड़ लगाए गए। वृक्षारोपण के दौरान डॉ विनीत साह, जगदीश कुशवाहा, धिरौली पंचायत के सरपंच ठाकुर दयाल कुशवाहा, मझौली पाठ पंचायत के सरपंच देवीलाल सिंह, बजौड़ी पंचायत के सरपंच भगवान सिंह, वार्ड सदस्य श्यामलाल जायसवाल, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता ममता वर्मा, प्रधानाध्यापक रामलाल प्रजापति, प्रधानाध्यापक बृजेन्द्र सिंह और शिक्षक मोहन सिंह की उपस्थिति ने कार्यक्रम को सफल बनाया। 



तेजी से फैल रहे उद्योगों और बढ़ती आबादी के कारण प्रदूषण का स्तर इन दिनों बहुत अधिक बढ़ रहा है। इससे लड़ने का एकमात्र तरीका अधिक से अधिक पेड़ लगाना है। अगर हम सचमुच स्वस्थ रहना चाहते हैं और अच्छे जीवनयापन करना चाहते हैं तो ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाए जाने चाहिए। ऑक्सीजन लेने और कार्बन डाइऑक्साइड को छोड़ने के साथ वृक्ष पर्यावरण से अन्य हानिकारक गैसों को अवशोषित करते हैं जिससे वातावरण में वायु शुद्ध बनी रहती है। अदाणी फाउंडेशन द्वारा सामुदायिक स्थलों पर वृक्षारोपण पर जोर देने का मकसद जहां समाज के विभिन्न समुदायों के बीच पर्यावरण के प्रति जागरूकता लाना है वहीं विभिन्न विद्यालयों में पौधरोपण का उद्देश्य स्कूली बच्चों को पर्यावरण और विकास से सम्बन्धित क्षेत्रों में निर्णय लेने में भागीदार बनाना है। स्थानीय ग्रामीणों ने अदाणी फाउंडेशन के वृक्षारोपण कार्यक्रम में अपना योगदान देते हुए इसका जोरदार स्वागत किया है। 

अदाणी फाउंडेशन के बारे में:

1996 में स्थापित, अदाणी फाउंडेशन वर्तमान में 18 राज्यों में सक्रिय है, जिसमें देश भर के 2250 गाँव और कस्बे शामिल हैं। फाउंडेशन के पास प्रोफेशनल लोगों की टीम है, जो नवाचार, जन भागीदारी और सहयोग की भावना के साथ काम करती है। वार्षिक रूप से 3.2 मिलियन से अधिक लोगों के जीवन को प्रभावित करते हुए अदाणी फाउंडेशन चार प्रमुख क्षेत्रों- शिक्षा, सामुदायिक स्वास्थ्य, सतत आजीविका विकास और बुनियादी ढा़ंचे के विकास, पर ध्यान केंद्रित करने के साथ सामाजिक पूंजी बनाने की दिशा में काम करता है। अदाणी फाउंडेशन ग्रामीण और शहरी समुदायों के समावेशी विकास और टिकाऊ प्रगति के लिए कार्य करता है, और इस तरह, राष्ट्र-निर्माण में अपना योगदान देता है।

Popular posts
सरई बाजार से बोलेरो हुई चोरी पता नहीं चला कानो कान
Image
अडानी कंपनी की कोल परिवहन मे लगी गाड़ी से खनुआ निवासी 25 वर्षीय राजू सिंह की हुई दर्दनाक मौत,कोल परिवहन बना जिले के लोगों के लिए मौत का कुआं,असमय काल के गाल में समाते जा रहे हादशों में लोग
Image
अपराधिक तत्वों को बढ़ावा देने वाले चौकी प्रभारी के खिलाफ क्षेत्रीय जनता ने उठाई आवाज चौकी प्रभारी को तुरंत बर्खास्त करने की मांग
Image
सोनभद्र के अगोरी व ब्रह्मोरी क्षेत्र में बेखौफ चल रहा है वैध के नाम पर अवैध बालू खनन,सेंचुरी एरिया में नदी की धारा में व धारा को मोड़ कर जेसीबी व नाव से हो रहा अवैध खनन प्रशासन मौन क्यों
Image
नवांकुर संस्था ग्राम विकास प्रस्फुटन समिति पड़खुडी द्वारा किया गया नशा मुक्ति अभियान के तहत समन्वय बैठक
Image