सुलियरी कोल ब्लॉक परियोजना के विस्थापितों के लिए बेहतरीन पुनर्वास कॉलोनी तैयार

सुलियरी कोल ब्लॉक परियोजना के विस्थापितों के लिए बेहतरीन पुनर्वास कॉलोनी तैयार

जिला सिंगरौली मध्यप्रदेश से ब्यूरो चीफ विवेक पाण्डेय की खास रिपोर्ट 



जिला सिंगरौली मध्यप्रदेश रिर्टन विश्वकाशी राष्ट्रीय हिन्दी मासिक समाचार पत्र (RV NEWS LIVE) ब्यूरो न्यूज़-सरई तहसील अन्तर्गत एपीएमडीसी को आवंटित सुलियरी कोल ब्लॉक परियोजना से प्रभावित गांवों के विस्थापितों के लिए पुनर्वास एवं पुनर्व्यस्थापन स्कीम के तहत सभी आधुनिक सुविधाओं से युक्त एक शानदार पुनर्वास कॉलोनी का निर्माण किया गया है। खनुआ नया टोला स्थित 123 हेक्टेयर में फैले इस पुनर्वास कॉलोनी में विस्थापित परिवारों के लिए मकान और प्लॉट की व्यवस्था, पक्की सड़क, नालियां, रौशनी की व्यवस्था, शुद्ध पेय जल, उचित मूल्य दूकान, आंगनबाड़ी भवन, हाट बाजार, विद्यालय भवन, सार्वजनिक खेल का मैदान,स्वास्थ्य केंद्र, सामुदायिक भवन, श्मशान/कब्रिस्तान का निर्माण, मंदिर/मस्जिद की स्थापना और शौचालयों की व्यवस्था जैसी बुनियादी जरूरतों का खास ख्याल रखा गया है। परियोजना से विस्थापित परिवार को पुनर्वास के लिए इस कॉलोनी में 90X60  वर्ग फुट का प्लाट आवंटित किया गया है जो किसी भी परिवार के लिए पर्याप्त माना जाता है।



 इसके साथ ही पुनर्वास कॉलोनी के 1200 छात्र-छात्राओं की बेहतर पढ़ाई के लिए एक भव्य स्कूल का निर्माण किया गया है। इस स्कूल में 3 डी मॉडल पर आधारित अत्याधुनिक  38 कमरे हैं।  इस एपीएमडीसी मॉडल स्कूल में अब स्थानीय बच्चे अंग्रेजी माध्यम में नर्सरी से 10वीं तक की पढ़ाई कर सकेंगे और उन्हें इसके लिए बाहर जाने की जरुरत नहीं होगी। । उनकी पढ़ाई सीबीएसई बोर्ड के तहत प्रशिक्षित शिक्षकों से करवाने की व्यवस्था की गयी है। यह स्कूल भव्य अत्याधुनिक साइंस और कम्प्यूटर लैब और खेल के मैदान जैसे बुनियादी ढांचे से सुसज्जित है। आनेवाले दिनों में यहाँ के बच्चे अच्छी पढाई कर इस क्षेत्र का नाम रौशन करेंगे साथ हीं सामाजिक और आर्थिक विकास में अहम भूमिका निभाएंगे



स्वास्थ्य सुविधा के मद्देनज़र कॉलोनी परिसर में हीं आधुनिक सुविधाओं से युक्त हॉस्पिटल का निर्माण कराया जा रहा है जो चन्द दिनों में बनकर पूरी तरह तैयार हो जायेगा। अब यहां के निवासियों को इलाज के लिए दूर नहीं भटकना पड़ेगा और कम से कम समय में मरीजों को हॉस्पिटल पहुंचाया जा सकेगा।  पुनर्वास कॉलोनी के अंतर्गत 18 किलोमीटर पक्की सड़क और जल प्रवाह के लिए 28 किलोमीटर पक्की नाली का निर्माण किया गया है ताकि सालोभर जल जमाव की स्थिति नहीं हो। खास बात यह है कि हर प्लॉट रोड से जुड़ी है जिससे हर घर को सीधा सड़क से जोड़ा गया है।

विस्थापितों को रात में भी आवागमन में कोई दिक्कतें नहीं हो, इसके लिए कॉलोनी के सभी सड़कों पर स्ट्रीट लाइट की व्यवस्था की गयी है। इसके साथ हीं बिजली की निरंतर आपूर्ति के लिए इस कॉलोनी के लिए अलग से विद्युत् सब स्टेशन का निर्माण करवाया गया है। विस्थापितों को पीने के लिए स्वच्छ पानी की व्यवस्था हेतु पानी का दो बड़े टैंक का निर्माण करवाया गया है साथ हीं वाटर ट्रीटमेंट प्लांट लगाया गया है। इसके लिए 1600x 2 केएलडी के दो प्लांट लगाए गए हैं।  अन्य सुविधाओं में सामुदायिक भवन, हाट बाजार परिसर, सार्वजनिक खेल का मैदान, उचित मूल्य की दूकान, आंगनवाड़ी केंद्र जैसी सुविधाएं विकसित की गयी है। बेहतरीन सुविधाओं से लैस सुलियरी कोल ब्लॉक परियोजना के विस्थापितों के लिए बनाई गयी पुनर्वास कॉलोनी निश्चित तौर पर आसपास के क्षेत्रों के लिए एक उदहारण है।

Popular posts
अदाणी फाउंडेशन द्वारा संचालित कोचिंग सेन्टर में वितरित की गयी निःशुल्क किताबें और टी-शर्ट
Image
सुलियरी कोल ब्लॉक परियोजना के विस्थापितों के लिए वाटर ट्रीटमेंट प्लांट का उद्घाटन
Image
पुलिस के सचेत रहने से कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा दंगा फैलाने की साजिश नाकाम,उपद्रवियों ने सुलियरी खदान में घुसकर पुलिस पर फेंके कीचड़ और पत्थर
Image
सुलियरी कोल ब्लॉक चालू रखने की मांग के साथ सैकड़ों की संख्या में सड़कों पर उतरे स्थानीय निवासी तख्ती और बैनर लेकर आंध्र प्रदेश राज्य सरकार की खदान के समर्थन में जिला कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन
Image
अदाणी फाउंडेशन द्वारा धिरौली में सिलाई प्रशिक्षण केंद्र का शुभारम्भ: आत्मनिर्भर बन रहीं हैं स्थानीय महिलाएं
Image