अदाणी फाउंडेशन द्वारा धिरौली में सिलाई प्रशिक्षण केंद्र का शुभारम्भ: आत्मनिर्भर बन रहीं हैं स्थानीय महिलाएं

अदाणी फाउंडेशन द्वारा धिरौली में सिलाई प्रशिक्षण केंद्र का शुभारम्भ: आत्मनिर्भर बन रहीं हैं स्थानीय महिलाएं

जिला सिंगरौली मध्यप्रदेश से ब्यूरो चीफ विवेक पाण्डेय की खास रिपोर्ट 



जिला सिंगरौली मध्यप्रदेश रिर्टन विश्वकाशी राष्ट्रीय हिन्दी दैनिक समाचार पत्र (RV NEWS LIVE) ब्यूरो न्यूज़- सरई तहसील अन्तर्गत झलरी, बजौड़ी, डोंगरी, अमरईखोह, बेलवार और धिरौली गांवों में जरूरतमंद महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में 'सक्षम' योजना के तहत अदाणी फाउंडेशन की तरफ से विशेष पहल की गयी है। स्थानीय ग्रामीण महिलाओं को हुनरमंद बनाने और रोजगार के अवसर पैदा करने के उद्देश्य से झलरी और धिरौली गांव में निःशुल्क सिलाई प्रशिक्षण केंद्र की स्थापना की गई है। इन प्रशिक्षण केंद्रों में हर बैच के लिए 20 स्थानीय महिलाओं और किशोरियों का चयन किया जाता है जिन्हें तीन महीने का निःशुल्क सिलाई प्रशिक्षण दिया जाता है। लाभार्थियों के प्रशिक्षण के लिए हर केंद्र पर 20 आधुनिक सिलाई मशीन की व्यवस्था की गयी है। तीन महीने के सफल प्रशिक्षण के उपरांत सभी उम्मीदवारों को राष्ट्रीय कौशल विकास निगम (नेशनल स्किल डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन) के तरफ से सर्टिफिकेट प्रदान किया जाता है। मंगलवार को धिरौली में सिलाई प्रशिक्षण केंद्र के  शुभारम्भ के मौके पर अदाणी ग्रुप के तरफ से कई अधिकारियों और स्थानीय ग्रामीणों की उपस्थिति ने कार्यक्रम को सफल बनाया। 

सिलाई की बारीकियां सिखाने के लिए झलरी गांव की रहनेवाली  श्रीमती अंगिरा प्रजापति और बासी बेरदहा गांव की हीरामती सिंह की पहचान कर उन्हें ट्रेनर के तौर पर विकसित किया गया जो अब तक 80 अभ्यर्थियों को सफलतापूर्वक प्रशिक्षित कर चुकी हैं। फिलहाल दोनों अलग-अलग प्रशिक्षण केंद्रों पर नए  बैच की 40 स्थानीय महिलाऐं प्रशिक्षण ले रही हैं। तीन महीने के प्रशिक्षण के दौरान लाभार्थियों को सलवार, प्लाजो, पेटीकोट, समीज, कुर्ती, पैंट, मैक्सी, लहंगा, कुर्ता, पायजामा और शर्ट तैयार करने के लिए विशेष तौर पर प्रशिक्षित किया जाता है। सफलतापूर्वक प्रशिक्षण प्राप्त उम्मीदवारों को राष्ट्रीय कौशल विकास निगम (नेशनल स्किल डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन) के तरफ से सर्टिफिकेट प्रदान की जाती है। गौरतलब है कि प्रशिक्षण के बदौलत सक्षम बनी महिलाओं को रोजगार मिल सकेगा और वह अपने परिवार की आर्थिक उन्नति का आधार बन सकेंगी।

निःशुल्क सिलाई प्रशिक्षण केंद्र खुलने से ग्रामीणों में काफी खुशी है और वो मानते हैं कि प्रशिक्षण प्राप्त महिलाओं और किशोरियों को किसी सिलाई उद्योग में नौकरी मिल सकती है या फिर खुद के सिलाई मशीन से पारिवारिक आय को बढ़ा सकती हैं और अपना भविष्य बेहतर कर सकती हैं। अदाणी फाउंडेशन के मुताबिक जब तक प्रशिक्षण प्राप्त महिलाओं की प्रतिदिन की आमदनी सुनिश्चित नहीं होती तब तक किसी भी रोजगार प्रशिक्षण को सफल नहीं माना जायेगा और इसके लिए उनके द्वारा तैयार उत्पादों की उचित मूल्य पर बिक्री के लिए मार्केटिंग के संबंध में भी बताया जा रहा है। अदाणी फाउंडेशन द्वारा लगातार प्रोजेक्ट के आसपास के गांवों में स्वास्थ्य शिविर, महिला उद्यमिता जागरूकता कार्यक्रम, स्थानीय युवाओं एवं युवतियों के लिए कौशल विकास कार्यक्रम, आधारभूत संरचना के निर्माण में सहयोग और विभिन्न खेल प्रतियोगिताओं के माध्यम से युवाओं को राष्ट्र निर्माण में आगे लाने की कोशिश किया जा रहा है।

Popular posts
SINGER SHILPI RAJ MMS: का प्राइवेट वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है, जिसमें वो एक लड़के के साथ आपत्तिजनक हालत में दिखाई दे रही है
Image
सिंगरौली-कुएं में गिरने से जंगली जानवर लकड़बग्घा (हड़हा) की मौत
Image
अदाणी फाउंडेशन की मदद से मशरूम की खेती कर महिलाएं आत्मनिर्भर बनने की राह पर
Image
कुएं से पानी भरते समय 45 वर्षीय महिला गिरी कुएं में महिला की हुई मौत
Image
अदाणी फाउंडेशन द्वारा जरूरतमंद परिवार के बच्चों के लिए छात्रवृत्ति योजना की सौगात
Image